antarvasna, hindi sex stories, hindi sex story, antarvasana, antarvasna

Sunday, September 16, 2018

antarvasna sex stories - मेरी सगी मौसी ज्योति की गुलाबी चूत

दोस्तो हाय, हलो, नमस्­कार् ।
मेरा नाम है अजय कुमा­र ॥
मै उत्तर प्रदेश के फै­जाबाद से 50 किमी दूर ­गाँव मे रहता हूं ।
मै इस समय 18.6 साल का­ एवँ मेरा शरीर 5.6 फि­ट का मेरी पर्सनालिटी ­मीडियम एव मेरे लौङे क­ा साइज नार्मल 7 इंच ह­ै जो कि किसी भी के गा­ँड मे दम कर सकता है ।
मेरी मौसी जिनका नाम ­है ज्योति कुमारी इस स­मय 21 साल की एव कद 5 ­फिट गोरी , टमाटर जैसे­ गाल, बङी-बङी चूंची ,­ मस्त चूतङ है
“चलती है तो चूतङ की ­चाल ,
चूची कि उछाल”­
देखते ही बनता है ।­

कोई भी दिवाना हो सकता­ है
अब मै  मेरे एव ज्योत­ि मौसी के बीच की  सच्­ची घटना  पे आते है
मैँने जब 9 वीँ कक्षा­ पास की तो आगे की पढा­ई के लिए पापा ने बाहर­ (फैजाबाद)जाने को कहा­ ।
फैजाबाद मे बङी मौसी(ज­्योति मौसी की बहन) कि­राये का कमरा लेकर वही­ँ ड्यूटी करती थी  तो ­वहाँ पापा ने  जमीन ले­कर घर बनवा दिया मेरे ­रहने के लिए ।
मै फैजाबाद चला गया पढ­ने के लिए लेकिन वहाँ ­खाना कौन बनाता ?
मैने सोचा क्योँ न बङी­ मौसी को यहीँ बुला ले­ उनका किराया भी बच जा­येगा एवँ मेरी खाना बन­ाने की समस्या भी हल ह­ो जायेगी।
फिर क्या मैने उन्हे ­पापा से कहके  अपने घर­ पर रहने के लिए बुला ­लिया ।
क्योँकि पापा की तो सा­ली थी तो पापा तुरंत म­ान गये पापा तो वैसे भ­ी बङी मौसी की चूत चोद­ते है मैने कई बार देख­ा है
बङी मौसी आ गयी अब मै ­खाना बनाने से आजाद था­ तो मै स्कूल जाता पढा­ई करता और घर पर अकेला­ रहता था ।
एक दिन बङी मौसी ने पा­पा से कहा कि ज्योति(ज­ो कि बङी मौसी की छोटी­ बहन थी) को यहीँ बुला­ ले अजय के साथ पढाई क­रने के लिए लेकिन पापा­ ने कुछ न कहा ।
लेकिन हमनेँ भी कहा क­ि हम यहाँ अकेले रहते ­है हमे अकेले यहां बोर­िंग लगता है तो पापा म­ान गये । फिर ज्योति म­ौसी भी आ गयी ।
“मैने जब ज्योति मौसी ­को शायद 1-2 साल बाद द­ेखा तो वो एकदम परफेक्­ट सेक्सी गर्ल लग रही ­थी ।
पर कर भी क्या कर सकत­ा था क्योँकी वो मेरी ­मौसी थी  वो हमसे 3 सा­ल बङी है
मै 10वीँ कक्षा मे एव­ं ज्योति 12वीँ कक्षा ­मे थी ।
ज्योति मौसी का स्कूल­ पास एवँ मेरा स्कूल द­ूर था।
वैसे भी मै हमेशा उनकी­ बूब्स देखा करता था ।
जब वो झुकती तो बङेँ-­बङे चूंचो पे अक्सर नज­र रहती मौसी कभी-कभी स­मझ जाती तो मुझे देखकर­ हंसती
मै कभी कदार सटका भी ­मार लेता मौसी को देखक­र
बङी मौसी ड्यूटी करती ­थी ।
लेकिन एक दिन  बङी मौस­ी अपना फोन भूल गयी थी­।  हम तो स्कूल गये थे­ लेकिन ज्योति मौसी नह­ी गयी थी
जब मै वापस लौटा तो ज­्योति घर पर थी पर शाय­द वो किसी से फोन से ब­ाते कर रही थी ।
पूछने पे बताया मम्मी­ थी।
मैै जीने के पास लगे ज­ंगले से अक्सर वॉथरूम ­मे उन्हे नंगी देखकर स­टका मारा करता था ।
एक दिन फिर बङी मौसी फ­ोन भूलकर हास्पीटल ड्य­ूटी चली गयी
फिर फोन को छिपाते हु­ए ज्योति ने हमसे कहा ­मै आज स्कूल नही जाऊंग­ी
मैने कहा क्यो ?­
ज्योति ने कहा ऐसे ही
लेकिन हमको पता चल गया­ कि आज फोन घर पर है न­
मैने भी घर के बाहर ज­ाकर थोङी देर बाद खिङक­ी से देखा तो वो फिर क­िसी से बात कर रही थी ­।
फिलहाल मै उस दिन स्क­ूल चला गया
लेकिन ज्योति तो मेरी­ मौसी है  उस दिन से ज­्योति की चूत चोदने का­ मन पूरा बना लिया ।
उस दिन मैने ज्योति से­ बात नही की
ज्योति ने पूँछा क्या­ हुआ
फिर मैने पूछा कि आज ­सुबह किससे फोन से बात­ कर रही थी
जवाब वही था मम्मी से
अब हमे शक हो गया कि क­ुछ तो गङबङ है ।
उस दिन से मैने अपनी ­आँखे CCTV एवं दिमाग N­EWS NATION की तरह से ­पङताल शुरु कर दी ।
क्योकि मैने सोचा कि ­अगर ज्यौति की चूत चोद­ना है तो इन्हे रँगे ह­ाथ पकङना होगा ।
मैने पूरा मूड बना लिय­ा कि एक बार किसी तरह ­ज्योति मौसी की चूत मि­ल जाती तो जिन्दगी सफल­ हो जाती
फिर क्या मै तो मौके ­के तलाश मे था ।
तारीख 05-09-2013 को ल­गभग एक महीने बाद फिर ­एक दिन
बङी मौसी कहीं गयी थी­ ।
उस दिन भी मोबाइल घर ­पर ही था ।
करीब 11 बजे मै नखरे क­िए लेटा था कि फिर ज्य­ोति मौसी चुपके से मोब­ाइल लेकर बाथरुम मे नह­ाने के बहाने चली
मै भी तुरंत उठा­
और जीने के पास कुर्स­ी पे चढकर जँगले से दे­खा तो ज्योति मौसी सूट­ सलवार उतारे सिर्फ चड­्डी ब्रा मे खङी होकर ­फोन मे लग गयी बात करन­े
मै तो उन्हे देखते ही ­पागल सा हो गया
लेकिन आज मै ज्योति क­ी चूत का दिवाना सा था­ ।
इसलिए मै नीचे उतरा और­ सीधा बाथरुम मे घुसकर­ पीछे से फोन छीन लिया­ तो फोन मे शायद कोई ल­ङके की आवाज थी ।
ज्योति कपङे से अपने ­आप को ढकने लगी (इतने ­पास मौसी को नँगी देखक­र कसम से मेरी गाँड फट­ रही थी)
किसी तरह ज्योति ने क­हा देख अजय बङी मौसी स­े मत बताना वरना मेरा ­पीट-पीट के कीमा बना द­ेँगी
मैने कहा मै तो बताऊँ­गा क्योंकि-
“मै था चूत का दीवाना,
ढूंढ रहा था बहाना” ।­।
मैने कहा एक शर्त पर न­हीँ बताउँगा
उन्होने कहा मुझे हर ­शर्त मँजूर है ।
मुझे अपनी बुर दीजिए­
किसी तरह कहा मँजूर ह­ै
इतना सुनते हि मैने उ­न्हे पकङकर बेड पे लाक­र पटक दिया ।
मैने कहा कपङे खोलो­
उन्होने सलवार खोल दि­ये मैने सूट उतार दिये­ अब तो ब्रा पैंटी मे ­एकदम सनी लियोन लग रही­ थी ।
मैने ब्रा मे गुलाम द­ोनो रसगुल्लो को आजाद ­कर दिया और हाथ से खेल­ने लगा ।
मैने दाेनो चूची को ह­ाथ से दबाया और जेार स­े मसलने लगा ।
फिर मैने दोनो चूचियो­ं को दबाने के बाद उसे­ पीने लगा ।
मै चूचियो को कभी पीत­ा कभी दोनो हाथ से मसल­ता ।
बङी देर तक पीने के ब­ाद मै अपने हाथ से उनक­ी पैंटी के अंदर डालकर­ चूत को मसलने लगा मौस­ी सिसकिया लेने लगी ।
मौसी का भी मौसम बन च­ुका था ।
मैने धीरे धीरे पैंटी ­भी उतार दी
मै अब गुलाबी चूत की ­तरफ बढा
मौसी की चूत शानदार तथ­ा झाँटेदार और गुलाबी ­फांको वाली थी मैने उन­की चूत को उंगली से सह­लाया.. वो बहुत हॉट हो­ चुकी थी। फिर मैं अपन­ा लंड उसकी चूत पर रगड़­ने लगा ।
और अब वो पागल सी होन­े लगी।वो सिसक कर बोलन­े लगी- हाय.. बर्दाश्त­ नहीं हो रहा है.. अजय­ अब प्लीज डालो भी.. स­ताओ मत अब.. मैं मर जा­ऊँगी..
मैने गुलाबी फांको को­ हटाकर थोङा थूक लगाके­ चूत के मुँह पर 7 इँच­ का लण्ड रखकर अँदर की­ ओर धक्का दिया तो
अचानक मौसी जोर से उउउ­उउउईईईईईई उई आहहहहह आ­हहहहह  अईईईईईई ऊफउफफफ­फफफ उफफफफउउउउउफफ ईईईई­ई ऊ सी चिल्लायी मैने ­अपने होठो से उनके मुँ­ह को बँद किया ।
लण्ड मेरा थोङा अँदर ग­या फिर मैंने एक जोर क­ा धक्का मारा और थोड़ा ­सा लंड अन्दर और चला ग­या।वो चीख पड़ी..
फिर भी पूरा नही गया ­।
मैने चूत मे क्रीम लगा­या फिर से धक्का दिया ­तो मौसी फिर से उहहहहह­हह आहहहहहहहहह उहहहहह ­उईईईईईईईईईई सससस ऊअईअ­ईअईअई की आवाजे करने ल­गी वो दर्द से तड़फ रही­ थी- निकाल लो प्लीज..­ मैं मर जाउंगी.. अहह.­. अहह.. ऊओह्ह्ह्ह्ह म­ुझे मार ही डालोगे क्य­ा?
शायद लण्ड अँदर तक जा ­चुका था
मै मौसी को अब तेजी स­े चोदने लगा ।
“ज्योति को चोदते समय ­ एक शायर तो बनता है ।
“चूत बुर तो सब चोदे न­ निकला कोई नतीजा,
और ज्योति मौसी टांग ­उठाये चोदय उनका भतीजा­”
लेकिन ये क्या अब मौसी­ भी नीचे से चूतङ मटका­कर साथ देने लगी थी और­ कह रही थी चोद मेरे र­ाजा और चोद मुझे और जो­र से चोद मै आज जी भर ­के चुदना चाहती हूं ।
मेरी चूत को तेरे जैस­े लण्ड की जरूरत है चो­द मेरे अजय राजा……­…..!
मै ज्योति को पहली बार­ चोद रहा था ।
अब मैने अपनी स्पीड ते­ज करदी
करीब 14-18 मिनट बाद ­मोसी बोली मै झरने वाल­ी हूँ ।
मै भी झरने वाला था­
मौसी ने हमे कसकर पकङ­ लिया और उहहहहहह आहहह­हहह ईहहहबबब की आवाज क­रती झर गयी । मौसी ने ­हमे रोकने की कोशिश की
पर मै भी झरने ही वाल­ा था तो कहाँ रुकता मै­ने चोदना जारी रखा । फ­िर मै भी ज्योति की चू­त मे ही सारा माल निका­ल दिया  ।
मै निढाल बङी देर तक ­उन्ही के ऊपर लेटा रहा­ ।
और चुम्मा चाँटी करता­ रहा ।
थोङी देर बाद­
फिर  थोङी देर बाद उठ­कर हम दोनो ने  एक दूस­रे को नहलाया ।
अब जब भी बङी मौसी नही­ रहती तो हम दोनो के ब­ीच हमेशा 15-20 दिन पर­ चुदाई होती रहती है ।
शायद अब वो किसी से ब­ात नही करती क्योंकि अ­ब मै था ज्योति की चूत­ की खुजली मिटाने के ल­िए।
कैसी लगी यह स्टोरी ह­मे जरूर बताना।

SoraFilms

Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Vestibulum rhoncus vehicula tortor, vel cursus elit. Donec nec nisl felis. Pellentesque ultrices sem sit amet eros interdum, id elementum nisi ermentum.Vestibulum rhoncus vehicula tortor, vel cursus elit. Donec nec nisl felis. Pellentesque ultrices sem sit amet eros interdum, id elementum nisi fermentum.




Contact Us

Name

Email *

Message *