Hot Girlfriend Ki Maa Ki Chudai - Hindi Sex Story

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम साहिल है और में लखनऊ का रहने वाला हूँ। दोस्तों में पिछले बहुत समय से सेक्सी कहानियाँ पढ़ने का आदी हूँ और मैंने अब तक बहुत सारी सच्ची कहानियों के मज़े लूटे और आज में आप सभी HindiXxxStory.Tk के चाहने वालों को अपनी भी एक ऐसी ही सच्ची कहानी वो बताने जा रहा हूँ जो मेरे साथ सच में कुछ समय पहले घटित हुई, लेकिन उससे पहले में आप लोगों को अपने बारे में बता देता हूँ। दोस्तों मेरी उम्र 25 साल है और में दिखने में ठीकठाक हूँ दोस्तों उस समय मेरी एक गर्लफ्रेंड हुआ करती थी और उसका नाम पूजा था।
वो दिखने में बहुत ही सुंदर थी और हम दोनों एक दूसरे को बहुत प्यार करते थे और बहुत बार हम दोनों घंटो तक इधर उधर घूमते फिरते थे और मज़े मस्ती किया करते थे। मैंने बहुत बार उसके होंठो को चूमा और कभी कभी उसके बूब्स भी दबाए, लेकिन उससे ज्यादा कुछ नहीं किया, क्योंकि मुझे कभी ऐसा कोई अच्छा मौका नहीं मिला, जिसका में फायदा उठाकर उसके साथ वो सब कर पाता। अब में उस असली बात सच्ची घटना पर आता हूँ और सब कुछ विस्तार से सुनाता हूँ। दोस्तों जहाँ पर हम लोग रहते थे वहां से थोड़ी ही दूरी पर मेरी गर्लफ्रेंड पूजा का घर था, उसकी मम्मी को में हमेशा आंटी कहकर बुलाता था और वो लोग पंजाबी थे और आप लोग तो बहुत अच्छी तरह से जानते ही है कि पंजाबी औरते कितने हॉट & सेक्सी लगती है? और ठीक वैसे ही पूजा से ज्यादा अच्छी मुझे उसकी मम्मी लगती थी उनका नाम उषा था और उन आंटी की उम्र करीब 40 साल के आसपास थी, लेकिन फिर भी वो अपने चेहरे, सेक्सी गदराए बदन से दिखने में बिल्कुल भी नहीं लगती थी कि वो इतनी उम्र की है। वो एकदम गोरी, लंबी और बहुत सुंदर थी और मुझे अच्छी तरह से यह पता था कि उनके पति उन्हे कभी भी संतुष्ट नहीं कर पाते है, इसलिए वो कई बार के दूसरे लोगों के साथ पहले भी गलत संबंध बना चुकी थी। वो सब कुछ करके वो अपनी संतुष्टि वो सुख प्राप्त करने लगी थी जो उनको उनके पति से अभी तक नहीं मिला था और वो मज़े लेने लगी थी, जिसके लिए वो सब कुछ करने के लिए तैयार थी।
दोस्तों यह आज से करीब 6 साल पहले की बात है वो नवंबर का महीना था और दीवाली से कुछ दिनों पहले की बात है। उस एक दिन मैंने और मेरे एक दोस्त ने ड्रिंक करने का प्रोग्राम दिन में ही बना लिया। पहले हम दोनों ने ड्रिंक के मज़े लिए और उसके बाद हम दोनों ने ब्लूफिल्म देखने का प्रोग्राम बनाया और थोड़ी ही देर बाद हम लोग ब्लूफिल्म देखने लगे और उस फिल्म को देखने के बाद हम दोनों बहुत ही जोश में आ गये। तभी पता नहीं अचानक से मेरे दिमाग़ में कहाँ से वो विचार आ गया कि क्यों ना उषा आंटी को बुला लिया जाए और उनके साथ चुदाई के मज़े लिए जाए? तो मैंने वहीं से उन्हे फोन किया और कहा कि आंटी में साहिल बोल रहा हूँ और में आपसे कुछ बात करना चाहता हूँ। तो उन्होंने कहा कि बोलो क्या बात करनी है तुम्हे मुझसे? अब मैंने उससे कहा कि आंटी यह बात फोन पर नहीं हो सकती आप यहाँ पर मेरे दोस्त के घर पर आ जाए, तब में आपको सब कुछ बता दूंगा। तो उन्होंने मुझसे कहा कि में अभी थोड़ी ही देर में आ जाती हूँ और उसके बाद हम लोग दोबारा फिल्म देखने लगे और फिर हमने घर का दरवाज़ा खुला छोड़ दिया और मेरा दोस्त दूसरे रूम में थोड़ी देर के लिए चला गया। उस समय दरवाज़े पर घंटी बजी, तो मैंने वहीं पर बैठे हुए से ज़ोर से आवाज देकर कहा कि आंटी दरवाज़ा खुला हुआ है आप अंदर आ जाईए और वो मेरी आवाज सुनकर अंदर आ गई। उस समय में अंदर बैठा हुआ ब्लूफिल्म देख रहा था और वो अंदर आते ही मुझसे बोली कि तुम यह सब क्या देख रहे हो? सबसे पहले इसको बंद करो, उसके बाद हम बात करेंगे। फिर उनके कहने पर मैंने सीडी को बंद कर दिया और वो मेरे पास आकर बैठ गई और पूछने लगी हाँ अब बताओ तुम्हे मुझसे ऐसी क्या बात करनी है, जल्दी से बोलो मुझे कुछ जरूरी काम से कहीं जाना भी है? तो इतनी ही देर में मेरा वो दोस्त भी वहीं पर आ गया और मैंने उनसे कहा कि उषा आंटी आप पहले आराम से बैठ तो जाओ, उसके बाद हम बातें कर लेंगे, लेकिन वो बोली कि उन्हें कोई जरूरी काम है इसलिए उनको देरी हो जाएगी, जल्दी से बताओ। फिर मैंने हिम्मत करके उनसे कह दिया कि आप मुझे बहुत सुंदर लगती हो और में आपके साथ एक बार चुदाई करना चाहता हूँ और में उनकी तरफ मुस्कुराने लगा। तभी वो मेरी बातें सुनकर अचानक से बिल्कुल चकित हो गई और अब वो मुझसे बोली कि मेरे लिए तुम अभी बहुत छोटे हो। दोस्तों वास्तव में वो मेरे दोस्त के सामने इस तरह की कोई बात नहीं करना चाहती थी और जब उन्होंने मुझसे कहा कि मेरे लिए तुम अभी बहुत छोटे हो तो यह बात सुनकर मैंने उनसे कहा कि उषा आंटी में तो आपके लिए शायद अभी छोटा हूँ, लेकिन मेरा लंड आपके लिए छोटा नहीं है। फिर मेरे मुहं से यह बात सुनकर वो वहां से चली गई और मैंने उनको रोकने की अपनी तरफ से कोई कोशिश भी नहीं की। फिर जब वो चली गई तो हम लोगों का मूड एकदम खराब हो गया और उसके बाद हम दोनों फिर से ड्रिंक करने लगे, थोड़ी देर बाद मेरा दोस्त उठकर बाथरूम में चला गया और ठीक उसी समय उषा आंटी ने मेरे पास फोन किया और उन्होंने मुझसे पूछा कि तुम अभी कहाँ हो? मुझे भी तुमसे कुछ बात करनी है, क्या तुम अभी मेरे घर पर आ सकते हो? लेकिन तुम यह बात किसी को बताकर मत आना कि तुम मेरे पास आ रहे हो और मैंने तुम्हे फोन करके मेरे घर पर आने के लिए कहा था। दोस्तों ये कहानी आप HindiXxxStory.Tk पर पड़ रहे है।
फिर मैंने कहा कि हाँ ठीक है में किसी से कुछ भी नहीं कहूँगा और में थोड़ी ही देर में आपके पास आ जाता हूँ, तभी थोड़ी देर बाद मेरा दोस्त भी बाथरूम से अपना काम खत्म करके बाहर आ गया और उसके कुछ मिनट बाद अब हम दोनों की ड्रिंक भी खत्म हो चुकी थी और उसको नशा भी बहुत चड़ चुका था। तभी मैंने अपने दोस्त से कहा कि यार इसमे इतना मज़ा नहीं आया, में अभी एक बॉटल और लेकर आता हूँ हम और भी पीकर मज़े करेंगे है। फिर उसने मुझसे कहा कि नहीं यार अब बहुत हो गया है, लेकिन दोस्तों मुझे तो बहाना बनाकर उषा आंटी के घर पर जाना था इसलिए मैंने उसके मना करने के बाद भी उससे कहा कि नहीं यार मुझे इतना मज़ा नहीं आया। में एक बॉटल और लेने जा रहा हूँ तू यहीं रुक और में वहां से उठकर चला गया और मेरे घर के बाहर निकलते ही उसने अपने घर का दरवाज़ा बंद कर लिए। उस समय करीब तीन बजे रहे थे और फिर में उषा आंटी के घर पर गया, तो वो घर पर अकेली थी और उनकी बेटी मतलब मेरी गर्लफ्रेंड उस समय स्कूल गई थी और वो 4.30 बजे स्कूल से वापस आती थी। फिर मैंने उनसे पूछा कि क्यों घर में कोई है नहीं क्या? तभी वो बोली कि हाँ नहीं इसलिए तो मैंने तुम्हे यहाँ पर बुलाया है। अब में उनके मुहं से यह बात सुनकर थोड़ा सा हैरान हो गया, तब उन्होंने मुझसे कहा कि अगर तुम मुझे चोदना ही चाहते थे तो यह बात तुम्हे मुझसे अकेले में कहनी चाहिए थी, तुमने तो अपने दोस्त का सामने ही मुझसे वो सब कुछ कह दिया और फिर यह बात कहते हुए उन्होंने मेरे गाल पर अपना एक हाथ रखकर सहलाने लगी। मुझे बड़ा अजीब लग रहा था और में उस समय थोड़ा सा नशे में भी था, इसलिए मुझे कुछ अलग ही लग रहा था। फिर उसके बाद उन्होंने मुझसे पूछा कि अब सच सच बताओ क्या में तुम्हे इतनी अच्छी लगती हूँ? तो मैंने कहा कि हाँ आंटी आप बहुत सुंदर और सेक्सी भी हो मुझे बस आपको प्यार करने की बहुत इच्छा होती है में चाहता हूँ कि आप हमेशा मेरी बाहों में रहो और में आपको प्यार करता रहूँ। तभी उन्होंने मुझसे कहा, लेकिन तुम तो मेरी बेटी को पसंद करते हो। फिर मैंने उनसे पूछा कि आंटी आपको यह बात कैसे पता चली? तब उन्होंने मुझसे कहा कि बेटा मुझे सब कुछ पता है, उसके बाद उन्होंने मुझसे पूछा कि क्या तुम कोल्डड्रिंक पीना चाहोगे? मैंने कहा कि हाँ मुझे अब थोड़ी सी प्यास तो लग रही है। फिर मेरा जवाब सुनकर उषा आंटी उठकर अंदर चली गई और वो करीब दस मिनट के बाद बाहर मेरे पास आई में उनको देखकर एकदम हैरान रह गया। उनको देखते ही मेरा सारा नशा जैसे गायब हो गया हो और वो एक सफेद कलर की पतली सी ड्रेस पहने हुए थी और उन्होंने उसके अंदर कुछ भी नहीं पहना हुआ था जिसकी वजह से उनके बूब्स और चूत मुझे साफ साफ दिख रहे थे। में उनको बहुत ध्यान से अपनी चकित नजरों से देखने लगा और मेरी नजर उनके अधनंगे बदन से हटने को बिल्कुल भी तैयार नहीं थी। फिर वो मुझसे पूछने लगी कि ऐसे क्या देख रहे हो, क्या तुमने कभी किसी को इस तरह नहीं देखा है? फिर मैंने कहा कि नहीं उषा आंटी, आप आज बहुत अच्छी लग रही हो और मेरा दिल कर रहा है कि में आपको अपनी बाहों में लेकर आपकी बहुत जमकर चुदाई करूं। फिर उन्होंने मुझसे कहा कि हाँ तो करो ना, तुम्हे किसने रोका है। फिर मैंने कहा कि लेकिन आपने तो मुझसे अभी कुछ देर पहले साफ मना कर दिया था। फिर वो बोली कि क्या में तुमसे तुम्हारे दोस्त के सामने वहीं पर अपनी चुदाई करवाती और यह बात कहते हुए वो मेरे पास आ गई और मेरे गले में उन्होंने अपनी बाहों को डाल दिया। मैंने तुरंत उनके चेहरे को अपने हाथ में लेकर उनके गुलाबी होंठो को में किस करने लगा और पहले तो में उनको बहुत धीरे धीरे किस कर रहा था, लेकिन जब मैंने देखा कि उषा आंटी भी किस करने में मेरा पूरा पूरा साथ दे रही है तो में और ज़ोर से उनके होंठो पर किस करने लगा।
फिर उसके बाद उन्होंने मुझसे कहा कि तुम अब अपना लंड मुझे दिखाओ, ज़रा में भी तो देखूं कि मेरी बेटी की पसंद कैसी है? तो मैंने उनसे कहा कि मैंने पूजा के साथ आज तक ऐसा कुछ नहीं किया है तो वो मुझसे कहने लगी कि क्यों नहीं किया? यह कहते हुए उन्होंने मेरे लंड को मेरी जींस से बाहर निकालकर अपने हाथ में ले लिया और बोली हाँ यह तो वास्तव में बहुत बड़ा है। अब वो मेरे लंड को धीरे धीरे से अपने नरम मुलायम गोरे गोरे हाथों से सहलाने लगी और उनका स्पर्श पाकर मेरा लंड मस्ती में आकर झूमने लगा और वो तुंरत अपने आकर को ज्यादा बड़ा करने लगा। फिर में धीरे से अपना एक हाथ उनके बूब्स पर ले गया और कपड़ो के ऊपर से ही बूब्स को दबाने लगा तो वो मुझसे बोली कि ज़रा ज़ोर से दबाओ। मैंने बहुत दिनों से किसी से अपनी चुदाई नहीं करवाई है और तुम मुझे आज अपना पूरा जोश और तुम्हारे लंड का दम दिखाओ। दोस्तों अब में उनके बूब्स को ज़ोर ज़ोर से दबाने और उनकी निप्पल को पकड़कर पूरा ज़ोर लगाकर निचोड़ने लगा, जिसकी वजह से बूब्स एकदम लाल हो गए और वो उूउऊहह्ह्ह्ह्ह आईईईईई की आवाज़ निकालने लगी। यह देखकर मुझे बड़ा अच्छा लग रहा था और अब मैंने जल्दी से उनकी उस सफेद ड्रेस को उतार दिया और उनके बूब्स के निप्पल को अपने होंठो के बीच में रखकर उन्हे चूसने लगा। वो आआआअहह् उफफ्फ्फ्फ़ माँ मर गई करने लगी। दोस्तों में अपने एक हाथ से उनके दूसरे बूब्स को दबा रहा था और मेरा दूसरा हाथ उनकी जाँघो पर था। में अब उनकी गोरी गरम भरी हुई जाँघो को सहला रहा था। फिर उसके बाद उन्होंने मेरे कपड़ो को उतारना शुरू कर दिया और उन्होंने धीरे धीरे मेरे सारे कपड़े उतार दिए और मेरे लंड को अपने हाथों में लेकर सहलाने लगी। मेरा लंड एकदम टाईट हो चुका था और फनफनाने लगा था। तभी आंटी बोली कि आज मुझे उम्मीद है कि बहुत दिनों के बाद चुदाई का असली मज़ा आएगा और मुझे ऐसा लगता है कि तुममें बहुत जोश दम भी है और वो तुम ही हो जो मेरी इस प्यासी चूत को आज शांत कर सकते हो। फिर मैंने कहा कि हाँ आंटी आपने बिल्कुल ठीक कहा, लेकिन आज तक मैंने कभी किसी के साथ चुदाई नहीं की है, इसलिए मुझे चुदाई करने का ऐसा कोई खास अनुभव नहीं है, लेकिन मेरे लंड में गरमी बहुत है वो जरुर में आज आपकी चूत डाल दूंगा और आपकी चूत के साथ साथ अपने लंड को भी शांत करूंगा। फिर वो बोली कि इस बात की तुम बिल्कुल भी चिंता मत करो में तुम्हे वो सब कुछ सिखा दूँगी। मुझे उम्मीद है कि तुम आज पहली चुदाई में ही सब कुछ सीखकर अगली बार बिना बताए मुझे जरुर चोद सकते हो। फिर मैंने कहा कि हाँ ठीक है जैसी आपकी मर्जी, मुझे तो अपने लंड का जोश ठंडा करना है और उससे आपका भी फायदा होगा। फिर उन्होंने मेरा लंड अपने मुहं में ले लिया और लंड को अपने मुहं के अंदर बाहर करने लगी। मुझे बड़ा मज़ा आ रहा था इसलिए में अब आंटी के सर को पकड़कर अपने लंड पर ज़ोर ज़ोर से दबाने लगा और यह देखकर आंटी बोली कि तुम मुझसे झूठ बोल रहे हो कि तुमने किसके साथ पहले कभी सेक्स नहीं किया। फिर मैंने कहा कि नहीं आंटी में सच कह रहा हूँ और यह सब तो मैंने इससे पहले ब्लूफ़िल्मो में देख था। फिर वो बोली और क्या क्या देखा था बताओ? अब मैंने उनसे कहा कि में आपको बताऊँगा नहीं करके दिखा दूंगा। फिर वो बोली की हाँ ठीक है और वो दोबारा ज़ोर से मेरे लंड को अपने मुहं में अंदर बाहर करने लगी। फिर करीब दस मिनट तक वो लगातार मेरे लंड को अपने मुहं में लिए रही, क्योंकि मेरा यह अनुभव पहली बार था, इसलिए में उनके मुहं में ही हल्का हो गया। फिर आंटी बोली कोई बात नहीं, पहली बार में यह सब होता है और फिर उन्होंने अपनी जीभ से मेरे लंड को चाट चाटकर साफ कर दिया और वो मज़े लेकर लंड को चाटने लगी और मेरा लंड कुछ देर बाद धीरे धीरे एक बार फिर से खड़ा होने लगा। उन सब कामो में हमें समय का पता ही नहीं चला और देखते ही देखते पूजा के आने का भी समय हो गया, लेकिन आंटी अभी तक झड़ी नहीं थी और हम दोनों अपने आप में मस्त थे। हमें दुनिया की कोई चिंता नहीं थी।
अब में उषा आंटी की चूत को सहला रहा था और दूसरे हाथ से उनके बूब्स को दबा रहा था उसके बाद आंटी ने मुझसे कहा कि तुम अब मेरी चूत को चूसो और अब में उनकी चूत को ज़ोर ज़ोर से चूसने लगा। उनकी चूत गीली हो चुकी थी और उसमें से कुछ पानी जैसे निकल रहा था में उसको चूसने लगा और वो ज़ोर ज़ोर से आआहह उफ्फ्फ्फ़ कर रही थी। हाँ ज़ोर से चूसो पी जाओ आज तुम इसका पूरा रस। फिर कुछ देर बाद वो जोश में आकर मेरा सर अपनी चूत पर दबाने लगी और में चूसता गया और अब वो मुझसे कह रही थी कि अब तुम मुझे चोदो अब मुझसे नहीं रहा जा रहा है। फिर मैंने भी बिना समय खराब किए अपना लंड उनकी चूत के मुहं पर रखा और एक हल्का सा झटका मार दिया तो मेरा आधा से ज्यादा लंड उनकी चूत में बहुत आसानी से फिसलता हुआ अंदर चला गया। फिर मैंने एक ज़ोर का धक्का मारा तो मेरा पूरा लंड उनकी चूत में घुस गया और वो हल्की सी अवाज़ में चिल्लाने लगी आह्ह्ह्ह उफफ्फ्फ्फ़ हाँ और करो बहुत मज़ा आ रहा है मेरे राजा, मुझे ऐसे ही चोदते रहो उूउउहहहह आईईईई और में अपनी तरफ से ज़ोर ज़ोर से झटके देने लगा। फिर करीब 7 मिनट तक में लगातार धक्के देता रहा और उसके बाद उन्होंने मुझसे कहा कि अब तुम रुको। में तुम्हारे ऊपर आती हूँ। फिर मैंने कहा कि हाँ ठीक है और फिर में उनके कहने पर नीचे लेट गया और वो मेरे ऊपर आ गई और उन्होंने अपने एक हाथ से मेरे लंड को पकड़कर अपनी चूत के मुहं से मिलाया और मेरे लंड पर अपनी चूत का दबाव बनाती चली गई, जिसकी वजह से मेरा पूरा लंड उनकी चूत में घुसता चला गया। अब वो ज़ोर ज़ोर से उचक उचककर मेरे लंड को अपनी चूत के अंदर बाहर लेने लगी और में उनकी गांड को पकड़कर उनको ऊपर नीचे कर रहा था। फिर मैंने अपना हाथ उनके बूब्स पर रखा और उनको दबाने लगा। वो और ज़ोर ज़ोर से अवाज़ निकालने लगी उूुउउहह आह्ह्ह्हह्ह में मर गई और बोलने लगी कि आज बहुत दिनों के बाद मुझे ऐसा लंड मिला है। वो ज़ोर ज़ोर से झटके मारते हुए मुझसे कह रही थी आज बहुत मज़ा आ रहा है, तुम मुझे हर रोज आकर ऐसे ही चोदा करो, जिससे तुम्हे भी मेरे साथ मज़े करने का मौका मिलेगा और मुझे कहीं किसी और से अपनी प्यासी चूत को शांत करवाने बाहर नहीं जाना पड़ेगा, हम दोनों मिलकर यहीं पर ऐसे मज़े कर लिया करेंगे। फिर करीब 15 मिनट के बाद उषा आंटी मेरे ऊपर से हट गई और वो मुझसे कहने लगी कि आज बहुत मज़ा आया और तुम एक असली मर्द हो और तुम्हारे लंड में बहुत दम है, जिसने मेरी चूत को आज बिल्कुल शांत कर दिया है। तब मैंने उनसे कहा कि आपको तो मज़ा आ गया, लेकिन अभी मुझे मज़ा नहीं आया और यह कहते हुए में उनके ऊपर चड़ गया और उनकी चूत में अपना लंड डाल दिया। वो कहने लगी कि अब बस करो प्लीज और नहीं, में मर जाऊँगी। तब मैंने अपने होंठो को उनके होंठो पर रख दिया और ज़ोर से उनके होंठो को चूसने लगा, जिसकी वजह से अब वो बिल्कुल भी आवाज़ नहीं कर पा रही थी और में ज़ोर ज़ोर से धक्के देने लगा और उषा आंटी को ज़ोर ज़ोर से चोदने लगा। फिर करीब 15 मिनट बाद में भी हल्का हो गया और हल्का होकर उषा आंटी के पास में ही लेट गया। वो अपने हाथों से मेरे होंठो को छूते हुए बोली कि आज बहुत मज़ा आया तुम्हारा दिल जब चोदने का करे तो तुम मेरे पास आ जाया करो। दोस्तों आज भी में उनके घर जाता हूँ और उनको खूब चोदता हूँ ।।